आयुर्वेद उपचार घरेलु नुस्खे स्वास्थ्य

मधुमेह (डायबिटीज ) का घरेलू उपचार

मधुमेह (डायबिटीज )का घरेलू उपचार

madhumeh-ke-gharelu-upchaar

madhumeh-ke-gharelu-upchaar

आज कल के बदलते  परिवेश और रहन-सहन के कारण मधुमेह से पीड़ितो  की संख्या में काफी तेजी से इजाफा हो  रहा है। आज कल की भाग-दौड़ भरी जिंदगी और खान-पान पर नियंत्रण नहीं रख पाना  भी इसका मुख्य  कारण है। मधुमेह से  पीड़ित मरीज को सिरदर्द, थकान जैसी समस्याएं हर समय बनी रहती हैं। मधुमेह के कारण  खून के अंदर  शुगर की मात्रा ज्यादा हो  जाती है। ऐलोपैथिक में इसका अभी तक  कोई स्थायी समाधान नहीं मिल पाया है किन्तु  आयुर्वेद के उपायों, जीवनशैली में बदलाव, और  खान-पान की आदतों में सुधार करके इस मधुमेह को पूरी तरह नियंत्रित कर सकते हैं |

यहाँ हम आप सभी को  मधुमेह को नियंत्रित करने के कुछ सरल और घरेलु उपाय बता रहे हैं :-

1 :-जैसा की हम सभी जानते हैं की तुलसी के पत्तों के अंदर ऐन्टीआक्सिडन्ट और ज़रूरी तत्व  होते हैं जो इनसुलिन के लिये काफी  सहायक होते है । अतः तुलसी के 2 से 3 पत्तो का सुबह खाली पेट लेने से शुगर लेवल कम होने लगता हैं |
2 :-हम सभी यह जानते हैं की आवला हमारे शरीर के लिए हर तरह से फायदेमंद होता हैं 10 मीग्रा आवले के घोल में 2 से 3 ग्राम हल्दी पावडर मिला ले और इसे दिन में दो बार ले इससे सुगर कंट्रोल  होने लगता हैं |

3 :-काले जामुन को डायबिटीज  से पीड़ित के लिए एक अचूक औषधि माना जाता है। मधुमेह के मरीजो  को काले नमक के साथ जामुन खाना चाहिए। जिससे  खून में शुगर की मात्रा कंट्रोल  होती है।

4 :-आप अपने भोजन में महीनेभर के लिए रोज एक ग्राम दालचीनी का इस्तेमाल कर सकते हैं जिससे शुगर को कम करने के साथ – साथ वजन को भी नियंत्रित  करने में भी  मदद मिलती हैं ।

5 :-करेले को भी हम  मधुमेह की एक  दवा के रूप में उपयोग ले सकते हैं  इसका कडवाहट शुगर की  मात्रा कम करता है।अत: मधुमेह से पीड़ित ब्यक्ति को इसका जूस  रोज पीना चाहिए। करेले को उबाल कर उसके पानी को पिने से  मधुमेह को जल्दी ही  समाप्त किया जा सकता है।

6 :-मधुमेह के उपचार  में मेंथी के दाने का बहुत महत्व है, इससे पुराना से पुराना मधुमेह भी आसानी से  ठीक हो जाता है। मैथीदानों का चूर्ण  बनाकर रोज सुबह खाली  पेट दो चम्मच पानी के साथ लेना चाहिए जिससे शुगर जल्दी ही  ठीक हो जाता हैं
7 :-मधुमेह से पीड़ित  मरीजो को नियमित रूप से दो चम्मच नीम और चार चम्मच केले के पत्ते के रस को मिलाकर पीना चाहिए इससे भी शुगर कंट्रोल में रहता हैं ।

8:-ग्रीन टी को भी मधुमेह मे काफी  फायदेमंद मन जाता हैं  ग्रीन टी के अंदर पॉलीफिनोल्स होते हैं जो एक मज़बूत एंटी-ऑक्सीडेंट और हाइपो-ग्लाइसेमिक तत्व हैं, जिससे शरीर इन्सुलिन का सही तरह से इस्तेमाल कर पाता है।

Leave a Comment