मंत्र-श्लोक-स्त्रोतं मीराबाई भजन

होरी खेलत हैं गिरधारी

होरी खेलत हैं गिरधारी। / holi khelt hain girdhari

murali chang bajat daf nyaro

sang jubti brajnari

chandan kesar chhidkat mohan apne hath bihari

bhari bhari muth gulal lal sang

syama pran piyari

gavat char dmar rag tahn

gen gen kal krtari

fag ju khelt rasik sanvro

badhyo ras braj bhari

meeraku prabhu girdhar miliya

mohanlal bihari


मुरली चंग बजत डफ न्यारो।

संग जुबती ब्रजनारी॥

चंदन केसर छिड़कत मोहन अपने हाथ बिहारी।

भरि भरि मूठ गुलाल लाल संग
स्यामा प्राण पियारी।

गावत चार धमार राग तहं

दै दै कल करतारी॥

फाग जु खेलत रसिक सांवरो

बाढ्यौ रस ब्रज भारी।

मीराकूं प्रभु गिरधर मिलिया

मोहनलाल बिहारी॥

Leave a Comment