आयुर्वेद उपचार

जानिये कैसे करे अपने स्वास्थ्य को अच्छा

how-to-make-your-health-goodहां हम आपके स्वास्थ्य के बारे में बात करेंगे की आप अच्छा स्वास्थ्य कैसे पा सकते है। इसके लिए आपको क्या क्या करना चाहिए।  आज का मनुष्य तनाव, मानसिक परेशानी आदि से ग्रसित हो रहा है। लेकिन इस तरह की जिंदगी को जीते हुए भी आप अपने स्वास्थ्य को सही बना सकते हैं और जीवन का सुख भोग सकते हैं।  हमारा शरीर लगातार विभिन्न प्रकार की बीमारियों को झेलता रहता है। जिससे वो बहुत ही कमज़ोर हो जाता है इन सभी बीमारियों को रोकने के लिए हमारे शरीर में प्रतिरोधक क्षमता होनी चाहिए और हमारे लिए अपनी प्रतिरोधक  मज़बूत बनाना कोई ज़्यादा मुश्किल काम नहीं है। आइये हम आपको बताते हैं हमेशा स्वस्थ रहने के वैदिक उपाय क्या है?

यह भी जरूर पढ़े : मधुमेह (डायबिटीज ) का घरेलू उपचार

-: स्वस्थ रहने के वैदिक उपाय :-

ताम्बे के बर्तन का प्रयोग करे  आप रात  को ताम्बे के बर्तन में पानी भर कर रख दें और सुबह खाली पेट उस पानी का सेवन करे ऐसा करने से ये आपके high blood pressure  के रोग को दूर करता है और यह पेट के लिए भी लाभकारी है।

इस पानी को पीने से समस्त बीमारियां दूर होती है ये आपके लिए बहुत ही लाभकारी  सिद्ध होगा।

जल्दी सोना और जल्दी उठना  अगर हो सके तो रात के समय आपको जल्दी सो जाना चाहिए।  जिससे आप रिलैक्स महसूस करेंगे और ऐसा करने से आपका mind relax हो जायेगा और आपको सुबह जल्दी उठना चाहिए।  जिससे  आप fresh महसूस करेंगे ऐसा करने से आप पूरा दिन तनाव मुक्त रहेगा।

यह भी जरूर पढ़े : दिल से जुडी बीमारियों के घरेलू उपचार

morning walk  करनी चाहिए  आपको रोज़ सुबह जल्दी उठकर 1 से २ किलोमीटर तक हरी घास पर नंगे पाँव चलना चाहिए।  क्योकि ऐसा करने से आपकी आँखों की रोशनी बढ़ती है। इससे आपका माइंड भी फ्रेश हो जायेगा और ये आपकी आँखों के लिए भी बहुत ज़्यादा लाभकारी सिद्ध होगा।

सरसों के तेल की मालिश करे  अगर आप रोज़ तेल मालिश नहीं कर सकते तो हफ्ते में २ दिन तो आपको सरसों के तेल की मालिश करनी चाहिए। आप अपने शरीर पर तेल लगाकर थोड़ी देर धुप में बैठकर sun bath लें एैसा करने से शरीर निरोग रहता है।

यह भी जरूर पढ़े : हिलते दांत के लिए घरेलू उपचार dant hilne ke lie achook upay

रसीले और गिरीदार फलों का सेवन करे। जैसे संतरा मौसमी आम आदि फलों में भरपूर मात्र के खनिज लवण तथा विटामिन सी होता है। प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में ये महत्वपूर्ण हैं अगर आप चाहें तो इन फलो का  रस  निकालकर भी इनका सेवन कर सकते है और जितना हो सके सर्दी के मौसम में गिरीदार फलों का सेवन करना चाहिए, इनको आप रात भर भिगोकर रखने व सुबह चाय या दूध के साथ खाने से 1 घंटे पहले लेने से बहुत ही लाभकारी सिद्ध होगे।

अंकुरित अनाजों का सेवन करे  आप सभी को पता है की अंकुरित आनाज आप सभी की सेहत की लिए बहुत ही लाभकारी है जैसे मूंग, चना, दाल इन सभी चीज़ो का भरपूर मात्र में सेवन करे अगर आप अनाज को अंकुरित करोगे तो इससे उसकी क्षमता बढ़ जाती है।  इससे ये आसानी से पच भी जाते है और पौष्टिक और स्वादिष्ट होते हैं।

यह भी जरूर पढ़े : आयुर्वेदिक चिकित्सा से मिटाये खुजली की समस्या

तुलसी का प्रयोग तुलसी आप सभी को पता है की तुलसी का धार्मिक महत्तव  होता है। लेकिन आप शायद ये नहीं जानते की तुलसी एक बहुत ही अच्छी एंटीबायोटिक, दर्द निवारक और रोग प्रतिरोधक भी है। रोज सुबह तुलसी के ६ -७ पत्तों का सेवन करें। जिससे आपको खुद फर्क महसूस होगा।

yog व pranayama हर रोज़ करना चाहिए योग आपके शरीर को स्वस्थ और रोगमुक्त रखने में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका अदा करते हैं। किसी जानकार से इन्हें सीखकर प्रतिदिन घर पर इनका अभ्यास किया जाना चाहिए ऐसा करने से बीमारी आपके पास भी नहीं आएगी अगर आप योग सुबह के समय करते है तो इससे आप को पूरा दिन freshness का अनुभव महसूस होगा।

 यह भी जरूर पढ़े : 

रोगोपचार की दृष्टि से उपयोगी अन्य प्राणायाम

ध्यान योग की सरलतम विधियां

हंसना भी है जरुरी  क्या आप सभी  को पता है की हंसना भी बहुत ही ज़रूरी  होता है क्योकि हंसने से आपका रक्त संचार सुचारू रूप से चलने लग जाता है ऐसा करने से हमारा शरीर अधिक मात्र में ऑक्सीजन ग्रहण करता है इससे शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ने में मदद मिलती है। जो  की आपके लिए बहुत ही फायदेमंद है।

खासी जुखाम से छुटकारा – अगर आप खासी जुखाम से ज़्यादा परेशान है तो  खांसी, जुकाम से बचने के लिए काली मिर्च, अदरक और तुलसी वाली चाय पीयें इस चाय का लगातार 5 दिन सेवन करे ऐसा करने से आपका खासी जुखाम जल्द ही ठीक हो जायेगा।

अपनी नींद पूरी करे  ये तो आप सभी को पता है की नींद शरीर के लिए बहुत ही ज़रूरी है आपको अपनी नींद पूरी तरह से लेनी चाहिए।  ये कम से  कम 7 – 8 घंटे की होनी चाहिए। अगर आपकी नींद पूरी नहीं होगी तो इससे मनुष्य चिड़चिड़ा और बेचैन हो जाता है। और इसी वजह से उसको पूरे दिन कई समस्याओं का सामना करना पड़ता है। और  आप ऐसा नहीं करना चाहोगे तो इससे भला है की अपनी नींद पूरी कर लीजिये।

यह भी जरूर पढ़े : 

आंवले का प्रयोग करे:  आप जब भी रात का भोजन करे तो भोजन करने के बाद सोते समय आंवले के चूर्ण को पानी या शहद में मिला केर पी जाइये ऐसा  करने से कब्ज़ की बीमारी दूर हो जाती है। कब्ज़ कितना भी पुराना क्यों ना हो वो  ठीक हो जायेगा।

पानी का अधिक प्रयोग यह प्राकृतिक औषधि है। प्रचुर मात्रा में शुद्ध जल के सेवन से शरीर में जमा कई तरह की बीमारियो के विषैले तत्व बाहर निकल जाते हैं और प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है। पानी सामान्य तापमान गरम करे और जितना हो सके फ्रीज़ के पानी को पिने से बचे, हो सके तो दिन में 8से 10 गिलास तक पानी पिए, ये भी आपके स्वास्थ्य के लिए बहुत ही अहम है।

ये भी पढ़े :

आयुर्वेंद से करें अस्थमा का इलाज

आयुर्वेदिक चिकित्सा से मिटाये खुजली की समस्या

मुँह के छालों की आयुर्वेदिक चिकित्सा

आयुर्वेद से स्वाइन फ्लू चिकित्सा

आयुर्वेद में खांसी का उपचार

उदर की पीड़ा का आयुर्वेदिक उपचार

आयुर्वेद रखे दिल का ख्याल

पीठ दर्द में आयुर्वेदिक उपचार | back pain ayurvedic treatment

Leave a Comment