जैन धर्म

महावीर भगवान जी की आरती

ॐ जय महावीर प्रभु, स्वामी जय महावीर प्रभु
कुंडलपुर अवतारी, त्रिशलानंद विभो ….
ॐ जय महा….॥

सिद्धारथ घर जन्में, वैभव था भारी, स्वामी वैभव था भारी।
बाल ब्रह्मचारी व्रत, पाल्यो तपधारी॥
ॐ जय महा….॥

आतम ज्ञान विरागी, समदृष्टि धारी।
माया मोह विनाशक, ज्ञान ज्योति धारी॥
ॐ जय महा….॥

जग में पाठ अहिंसा, आप ही विस्तारयो।
हिंसा पाप मिटा कार, सुधर्म परिचारयो॥
ॐ जय महा….॥

यही विधि चाँदनपुर में, अतिशय दर्शायो।
ग्वाल मनोरथ पूरयो, दूध गाय पायो॥
ॐ जय महा….॥

प्राणदान मंत्री को, तुमने प्रभु दीना।
मंदिर तीन शिखर का, निर्मित है कीना॥
ॐ जय महा….॥

जयपुर नृप भी तेरे, अतिशय के सेवी।
एक ग्राम तिन दीनों, सेवा हित यह भी॥
ॐ जय महा….॥

जो कोई तेरे दर पर, इच्छा कर जावे।
धन, सुत सब कुछ पावै, संकट मिट जावै॥
ॐ जय महा….॥

निश दिन प्रभु मंदिर में, जगग ज्योति जरै।
हरि प्रसाद चरणों में, आनंद मोद भरै॥
ॐ जय महा….॥

Leave a Comment