ओशो भजन

ओशो के दीवाने हैं | Osho ke Diwane hai bhajan in hindi Mp3

ओशो के दीवाने हैं (Osho ke Diwane hai bhajan in hindi Mp3)

ओशो के दीवाने हैं, आनंद मनाते हैं;

हंसते नाचते गाते हैं, हम ध्यान में जाते हैं।

ना तो हम दुश्मन हैं मन के, ना ही शत्रुअपने तन के;

ना त्यागी ना लोभी धन के, हम हैं रिंद परम जीवन के।

नर्क का भयन स्वर्ग कामना, ना दुनिया की कोई वासना;

मिट गई मुक्ति की भी चाहना, इसे ही असली मोक्ष जानना।

मस्ती का यूं उठा बवंडर, गिर गए कर्म बंध के खंडहर;

अब तो सारा जग है मंदिर, ब्रह्म ही बाहर ब्रह्म ही भीतर।

नाक हीं मैं है नाक हीं तू है, फैली सभी ओर खुश्बू है;

सब में सत्यं शिवं सुंदरं, जो है उस कानाम प्रभू है।

.

Leave a Comment